Saturday, 19 July 2014

जानता है मेरा खुदा है तू

मन्नतों से मुझे मिला है तू
दर्दे दिल के लिए दवा है तू

खुद को देखेंगे तेरी नजरों से
एक शफ्फाक आईना है तू

खत्म तुझपे हैं मेरी राहें अब
हर दुआ का मेरी सिला है तू

इस जमाने का है असर तुझ पे
फिर भी हर एक से जुदा है तू

तू ही हमराह तू ही मंजिल है
खुद अकेले ही काफिला है तू

राज कोई कहां छुपा तुझसे
जानता है मेरा खुदा है तू

Thursday, 2 January 2014

ishq meN jab se ham ne khayi chot



ishq meN jab se ham ne khayi chot ...
apni lagne lagi paraayi chot ........

dil ke zakhmoN ka kya hisaab rakheN
jane kis kis se ham ne khayi chot.......

aap kaantoN ki baat karte haiN..
hum ne to phool se bhi khaayi chot...

ghair se kaise haal e dil kehte
ham ne apnoN se bhi chupaayi chot........

yaad aane laga khuda hamko
aaj phir de gayee khudayi chot........

dil... k jese makaaN hai sheeshe ka.
sirf chhoone se isko aayi chot ........

jis ne khaayi ho bas wahi jaane
"Janta kaun hai paraayi chot".......

jisko takleef ka nahiN ehsas
usko kyuN kar "Mahek" dikhayi chot ........

----------------------------------------------------------

इश्क़ में जब से हम ने खाई चोट
अपनी लगने लगी पराई चोट ……।

दिल के ज़ख्मों का क्या हिसाब रखें
जाने किस किस से हम ने खाई चोट .......

आप काँटों कि बात करते हैं ..
हम को तो गुल ने भी लगाई चोट ...

ग़ैर से कैसे हाल ए दिल कहते। .
हम ने अपनों से भी छुपाई चोट ........

याद आने लगा ख़ुदा हमको ।
आज फिर दे गई ख़ुदाई चोट ........

दिल ... के जैसे मकाँ है शीशे का .
सिर्फ छूने से इसको आई चोट ……।

जिस ने खाई हो बस वही जाने
"जानता कौन है पराई चोट ".......

जिसको तकलीफ का नहीं एहसास
उसको क्यूँ कर "महक " दिखाई चोट ........



Avani Asmita Sharma -- MAHEK...

guided By- Saalim shuja ansari sahab

Sunday, 22 December 2013

wo apna tha wo begana nahIN tha

 
 
 
 
 
 
 
ek nayi ghazal ke chand asha'ar ...

mire gum se wo anjana nahiN tha...
WO apna tha WO begana nahiN tha..

usi ke naam se ghar muntazir hai... ....
Jise ghar laut ke aana nahiN tha...

kiya ahsaaas ko ab qaid dil me ...
kisi ko ZAKHM dikhlana nahiN tha...

bana hai aaj wo humraaz fir se......
jise apna kabhi mana nahiN tha ...

nishaaN ubhre the rukh pe umr ke kuch ...
tabhi to usene pehchana nahiN tha......

use dil cheer kar maIN kya dikhaati ....
miri chahat ka paimana nahiN tha........

ye duniya to badi hi nasamajh hai...
ise har baat samjhana nahIN tha...

kisi ki zulf thi pehle hi barham.....
hawaoN ko bhi Ithlana nahiN tha.....

***********************************

मिरे गम से वो अनजाना नहीं था …
वो अपना था वो बेगाना नहीं था …

उसी के नाम से घर मुन्तज़िर है ....
जिसे घर लौट के आना नहीं था ....

किया अहसास को अब क़ैद हम ने ...
किसी को ज़ख्म दिखलाना नहीं था। ..

बना है आज वो हमराज़ फ़िर से ....
जिसे अपना कभी माना नहीं था ...

निशाँ उभरे थे रुख पर उम्र के कुछ ........
तभी तो उसने पहचाना नहीं था ...

उसे दिल चीर कर मैं क्या दिखाती ....
मिरी चाहत का पैमाना नहीं था ....

ये दुनिया तो बड़ी ही नासमझ है ....
इसे हर बात समझाना नहीं था ..

किसी की ज़ुल्फ़ थी पहले ही बरहम। ...
हवाओं को भी इठलाना नहीं था। …।

***********************************

Avani

GUIDED BY-- Saalim Shuja Ansari BHAIJAAN ...

Saturday, 16 November 2013

rawaaN hai ab

.... USTAD E MUHTARAM JANAB SAALIM SHUJA ANSARI SAHIB KE AASHEERWAD SE MERI TARAHI GHAZAL ... AHBAAB KI NAZAR .....


Deewar ban ke aage mire, meri maaN hai ab ...
mehfooz bijliyoN se mira aashiyaN hai ab...

mana maiN manziloN ke buhat hi qareeb hooN...
 lekin jo tum nahiN to safar rayega'N hai ab...

 jis zakhm ko chhipaya zamane ke khauf se..
 teri tasalliyoN se wo rukh par ayaaN hai ab ....

afsurda khwab meN jo nazar aayi thi bahar ...
""Sail e bahar aankhoN se meri rawaaN hai ab" ...

tanha hi kaaTna hai  safar is hayat ka...
gumraah rehguzar se har ik karvaaN hai ab .....

lagta hai ab khushi se koi wastaa nahiN...
jis samt dekhti hooN fughaN hi fugaaN hai ab ...

nakaam ho chuki haiN sabhi chaara saaziyaN...
marham hamare zakhm ka milta kahaN hai  ab..
kya dhooNdte ho raakh meN mera nishaN "mehak"..
jis ja jala tha jism wahaN par dhuaaN hai ab



 दीवार बन  के  आगे  मिरे , मेरी  माँ  है  अब  ...
महफूज़  बिजलियों  से  मिरा   आशियाँ  है  अब ...

माना   मैं   मंज़िलों  के  बुहत  ही  क़रीब  हूँ ...
 लेकिन  जो  तुम  नहीं  तो  सफ़र  राएगाँ  है अब  ...

 जिस  ज़ख्म  को  छिपाया  ज़माने  के  ख़ौफ़   से ..
 तेरी  तसल्लियों  से  वो  रुख  पर  अयाँ   है  अब। … 

अफ़सुर्दा  ख्वाब    में  जो  नज़र  आयी  थी  बहार  ...
""सैल ए     बहार  आँखों  से  मेरी  रवाँ   है  अब " ...

तन्हा   ही  काटना  है   सफ़र  इस  हयात  का ...
गुमराह  रहगुज़र   से हर इक  कारवाँ   है  अब  ..

लगता  है   अब  ख़ुशी  से  कोई  वास्ता  नहीं  ...
जिस  सम्त   देखती  हूँ  फ़ुग़ाँ  ही  फुगाँ  है  अब  ...

नाकाम    हो  चुकी   हैं    सभी  चारा  साज़ियाँ ...
मरहम   हमारे  ज़ख्म  का  मिलता  कहाँ  है   अब ..

क्या    ढूंढते    हो  राख़   में  मेरा  निशाँ   "महक  "..
जिस  जा   जला   था   जिस्म   वहाँ   पर  धुआँ   है  अब। ...

Saturday, 15 December 2012

""IZZAT HAMARI BACH GAYI IS BAAR SAAF SAAF ""

 
apne ustaad ki duaaoN ke tufail...ahle bazm ki baseeratoN ke hawale..... pesh hai..

""IZZAT HAMARI BACH GAYI IS BAAR SAAF SAAF ""

-------------------------------------------------------
sab jante haiN , wo haiN gunehgaar saaf saaf...
sabko dikha rahe haiN jo kirdaar saaf saaf..

maiN ne kiya tha pyar ka izhaar saaf saaf...
lekin unhoNne kar diya inkaar saaf saaf...

((Mazrat ke saath))
saalim shuja-A or janabe wahab bhi
kar deNge shayree se ab inkaar saaf saaf .... :)

is baar aa gai huN tumhare dayar meN ...
abba bhatak n jauN maiN is baar saaf saaf ..

layega ab kahaN se wo samaN jahez ka ....
kaise bache ghareeb ki dastaar saaf saaf ...

is raste se guzra he ashkoN ka qafila...
ye keh rahe haiN aapke rukhsaar saaf saaf ..

koi shagal mile mujhe, masroofiyat rahe...
fursat ne kar diya mujhe bezaar saaf saaf ....

dil meN rakhe ho bair , zabaaN par khuloos ...
zahir hui mayaan se talwaar saaf saaf...

sharm o haya ka aaj kisi ko nahiN lihaaz....
beshak tabahiyoN ke heN asaar saaf saaf ...

meN badh rahi hooN raah pe manzil ki chaah meN
logoN ne dekh li miri raftaar saaf saaf ...

khanjar unhi ke haath meN hoga ye dekhna
jo lag rahe heN mere wafadaar saaf saaf ..

"abba" tumhare hukm pe ham ne kahi ghazal ...
IZZAT HAMARI BACH GAYI IS BAAR SAAF SAAF ...

aandhi chali he sehne ghazal meN koi "mehak" ....
ik ik pahad ho gaya mismaar saaf saaf .........
************************************

==================================

सब जानते हैं , वो हैं गुनहगार साफ़ साफ़ ...
सबको दिखा रहे हैं जो किरदार साफ़ साफ़ ..

मैं ने किया था प्यार का इज़हार साफ़ साफ़ ...
लेकिन उन्होंने कर दिया इनकार साफ़ साफ़ ...

((मज़रत के साथ ))
सालिम शुजा - ए और जनाबे वहाब भी ..
कर देंगे शायरी से अब इनकार साफ़ साफ़ ....

इस बार आ गई हूँ तुम्हारे दयार में ...
अब्बा भटक न जाऊं मैं इस बार साफ़ साफ़ ..

लायेगा अब कहाँ से वो सामान जहेज़ का ....
कैसे बचे ग़रीब की दस्तार साफ़ साफ़ ...

इस रस्ते से गुज़रा है अश्कों का काफिला ...
ये कह रहे हैं आपके रुखसार साफ़ साफ़ ..

कोई शगल मिले मुझे , मसरूफियत रहे ...
फुर्सत ने कर दिया मुझे बेज़ार साफ़ साफ़ ....

दिल में रखे हो बैर , ज़बान पर ख़ुलूस ...
ज़ाहिर हुई मयान से तलवार साफ़ साफ़ ...

शर्म ओ हया का आज किसी को नहीं लिहाज़ . ...
बेशक तबाहियों के हैं आसार साफ़ साफ़ ...

मैं बढ़ रही हूँ राह पे मंजिल की चाह में
लोगों ने देख ली मिरी रफ़्तार साफ़ साफ़ ...

खंजर उन्हीं के हाथ में होगा ये देखना
जो लग रहे हें मेरे वफ़ादार साफ़ साफ़ ..

"अब्बा " तुम्हारे हुक्म पे हम ने कही ग़ज़ल ...
इज्ज़त हमारी बच गयी इस बार साफ़ साफ़ ...

आंधी चली है सहने ग़ज़ल में कोई "महक " ....
इक इक पहाड़ हो गया मिस्मार साफ़ साफ़ ..

************************************

Avani Asmita Sharma --MAHEK